Dil Ki Aawaaz

vakt vakt kee baat hai chal rahi meri kalam in panno par ye vakt kee karamaat hai

67 Posts

92 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 16014 postid : 741104

इंसान

Posted On: 15 May, 2014 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इंसान को जान पाना आसान नहीं होता
वो है एक अजीब सा जीव
अपनी जिंदगी से उसे कभी इत्मीनान नहीं होता ,
बदलता है वो इतने रंग अपने जीवन में
मगर एक भी रंग का निशान नहीं होता ,
भटकता है वो जिंदगी भर जिंदगी बिताने के लिए
मगर रह सके जहां वो सकूँ से ऐसा कोई मकान नहीं होता ,
खुशियो की चाह में दौड़ता है जिंदगी भर
नहीं जानता खुशियों को पाने का कोई सामान नहीं होता ,
छोड़ कर अपनी असलियत आज वो नकली हो गया
मंदिर की घंटियों को छोड़ कर पब में वो खो गया
जबकि पब में तो कोई समाधान नहीं होता ,
अपनी अय्याशियों में झूल गया इस कदर
अतिथि देवों भव को भूल गया इस कदर
अब तो बरसों उसके घर में कोई मेहमान नहीं होता ,
बुद्धि विवेक सब बेकार कर दिया
खुद को पहचानने से इंकार कर दिया
पा सकता था बहुत कुछ अगर नादान नहीं होता ,
इससे तो अच्छा था की वो इंसान नहीं होता |



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

9 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kavita1980 के द्वारा
May 15, 2014

बहुत सुंदर विवेचना आधुनिक जीवनशैली की

ANJALI ARORA के द्वारा
May 17, 2014

shukriya kavita ji jo aap ne mujhe samay diya

deepak pande के द्वारा
May 17, 2014

INSAAN APNE AAP KO HEE JAAN LE JINDAGEE ME WAHEE KAFI HAI AADARNIYA ANJALEE JEE SUNDER RACHNA SADAR NAMAN

ANJALI ARORA के द्वारा
May 17, 2014

बहुत बहुत धन्यवाद दीपक जी 

Prasneet Yadav के द्वारा
May 18, 2014

AmAZING (y) Anjali Arora Ji :)

Prasneet Yadav के द्वारा
May 18, 2014

AmaZinG (y) Anjali Arora Ji :)

ANJALI ARORA के द्वारा
May 18, 2014

THANKS PRASNEET JI

ANJALI ARORA के द्वारा
May 20, 2014

THANKS YOGI JI


topic of the week



latest from jagran